Saturday, April 17, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
पंचकूला मौत का कुछ नही पता कब आ जाये ऐसा ही वाक्या देखने को मिला सेक्टर 20 पंचकूला में* गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया
 
 
 
Chandigarh

विज्ञान के साथ अध्यात्म को जोड़कर सुखमय जीवन बना सकते हैं। --अमरनाथ भाई

April 03, 2021 05:38 PM
विज्ञान के साथ अध्यात्म को जोड़कर सुखमय जीवन बना सकते हैं। 
अमरनाथ भाई
चंडीगढ़ः - अग्रजन पत्रिका ब्यूरो-- गांधी स्मारक निधि पंजाब, हरियाणा व हिमाचल की ओर से एक गोष्ठी ‘‘गांधी दर्शन एवं युवा’’ विषय पर गांधी स्मारक भवन सैक्टर 16 चंडीगढ़ में की गई। इस गोष्ठी में मुख्य वक्ता वाराणसी से आये अखिल भारत सर्व सेवा संघ के पूर्व अध्यक्ष, प्रसिद्ध गांधीवादी विचारक तथा स्वतंत्रता सेनानी अमरनाथ भाई थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता देवराज त्यागी निदेशक गांधी स्मारक भवन चंडीगढ़ ने की।
93 वर्षीय गांधीवादी विचारक अमरनाथ भाई ने युवा शक्ति के आगे अपना व्याख्यान रखते हुए कहा कि आज हमारे सामने बहुत सी चुनौतियां हैं। उनका सामना आज के युवा को करना है। उन्होंने अपने रहने लायक समाज का निर्माण स्वयं करना है। आज विज्ञान ने दुनिया को छोटा कर दिया है। हमारे समाज को एक बहुत बड़ी देन है विज्ञान। इसी विज्ञान और टैक्नोलाॅजी ने माचिस या चाकू बनाया। इनका प्रयोग रसोई में खाना बनाने के लिये आग जलाने तथा सब्जी काटने में हो सकता है तथा इसका दुरूपयोग घर जलाने तथा किसी को मारने में भी हो सकता है। विज्ञान के साथ अध्यात्म को जोड़कर हम एक सुखमय समाज बना सकते हैं। इसलिये इनका समन्वय आवश्यक है।
आज मनुष्य तो दिख रहा है पर उसमें मनुष्यता नहीं दिखती। यदि हमारे आचरण में मनुष्यता नहीं होगी तो समाज कैसे चलेगा। समाज में बड़ी बड़ी बातें कही गई पर यदि उन्हें हम अपने जीवन में नहीं उतारते तो उसका क्या लाभ। आज धर्म के नाम पर लड़ाईयां चल रही हैं। हम एक दूसरे के धर्म पर लड़ते हैं तथा फिर स्वयं भी अपने को बाँटकर उसमें भी लड़ते हैं। धर्म में तंत्र और तत्व दोनों ही समाहित हैं परंतु आज हम तत्व को भूल गये हैं और केवल तंत्र में ही फंस कर रह गये हैं। सभी धर्मों ने मानवता को ऊँचा उठाने की बात की है और जिसे हमने प्रायः भुला दिया है। आज समाज में ‘‘और चाहिये, और चाहिये’’ की दौड़ कई बीमारियां पैदा कर रही है जैसे अनिदा्र, अकेलापन, डिप्रेशन, अविश्वास तथा नकारात्मक सोच है और हम इन सबसे गांधी दर्शन को अपना कर उबर सकते हैं।
देवराज त्यागी ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि गांधी एवं विनोबा जी के विचार समाज को आईना दिखाते हैं। हमें उनको दिल से अपनाना चाहिए। डाॅ. एम. पी. डोगरा ने सभी लोगों का धन्यवाद किया तथा कहा कि आज के युवा को नकली दौड़ में न पड़ कर सच्चा जीवन जीना चाहिए उसी में जीवन का आनंद है।
गोष्ठी में डाॅ. सरिता मेहता, पापिया चक्रवर्ती, कंचन त्यागी, आनंद राव एवं पुस्तकालय में पढ़ने वाले समस्त छात्रों ने भाग लिया।  
 
Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
चंडीगढ़ ब्रेकिंग न्यूज़ कपिल नागपाल के साथ क्यों की गई युवक की हत्या पढ़िए पूरी खबर
सप्ताह के अंत में 16 अप्रैल( शुक्रवार) को रात 10:00 बजे से सोमवार प्रात 5:00 बजे तक वीकेंड लॉक डाउन कहां हुआ पढ़िए पूरी खबर
चंडीगढ़ के पूर्व सांसद एवं भारत सरकार के अपर महासालिसिटर श्री सत्य पाल जैन ने बांटे। कोविड किट.
आने वाले दिनों में जजपा औऱ मजबूत होगी : ओपी सिहाग
रक्तदान शिविर में क्लब प्रेसीडेंट अनिता मिडा सहित लगभग 50 रक्तदाताओं ने रक्त दान किया
वेलफेयर संस्थाएं अपने क्षेत्र के निवासियों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें-परिंदा धार्मिक, सांस्कृतिक एवं चैरिटेबल संगठन अपना 52 वा स्थापना दिवस चंडीगढ़ ब्रेकिंग युवाओं के लिए खुशखबरी : आईटीआई में नए कोर्स शुरू करेगी प्रदेश सरकार*
जरूरतमंदों के लिए बनाए गए कोविड-19 राशन कार्ड धारकों में मासिक राशन का वितरण विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर किया