Saturday, April 17, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
पंचकूला मौत का कुछ नही पता कब आ जाये ऐसा ही वाक्या देखने को मिला सेक्टर 20 पंचकूला में* गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया
 
 
 
Chandigarh

बैको की निजिकरण के खिलाफ दूसरे दिन भी रही हड़ताल

March 16, 2021 09:16 PM

पंचकूला। यूएफबीयू के आह्वान पर दो दिवसीय हड़ताल के दूसरे दिन पंचकूला व एसबीआई मुख्य शाखा भवनों, सेक्टर 17, बैंक स्क्वायर, चंडीगढ़ के सामने प्रदर्शन किया गया। दीपक शर्मा ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक राष्टÑ निर्माता हैं। उनके पास संपत्ति का समानजनक मूल्य है, और उनके पास लाखों करोड़ों का धन है। यह निजी उद्यमों/व्यवसायिक घरानों या कॉरपोरेट्स के हाथों में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की बैंक शाखाओं, अवसंरचना और परिसंपत्तियों के विशाल नेटवर्क को रखने के लिए तर्कहीन, बल्कि, शरारती और एक गलत मकसद होगा। इससे देश के आबादी को आसान, अगले दरवाजे और सुरक्षित बैंकिंग से वंचित कर दिया जाएगा। इससे आम आदमी को सुविधाजनक, किफायती बैंकिंग सेवाओं से वंचित होना पड़ेगा। यह प्रतिगामी निष्क्रिय है क्योंकि यह बड़े पैमाने पर बैंकिंग से वर्ग बैंकिंग की ओर मुड़ता है। यह एकाधिकार और कार्टेलिजÞेशन का मार्ग भी प्रशस्त करेगा। यह हमारे जैसे विकासशील देश के लिए एक प्रतिगामी उपाय है, जहां बैंकिंग नेटवर्क को और अधिक फैलाने की जरूरत है, साथ ही सामाजिक जिम्मेदारी की भी भावना है, जिसकी बैंकों के निजीकरण होने पर अत्यधिक कमी होगी। उन्होंने कहा कि अगर हम हाल के बैंकिंग इतिहास को देखें, तो हम पाएंगे, जब भी कोई भी निजी क्षेत्र का बैंक मुसीबत में पड़ता है, तो वसूली के कोई स्रोत नहीं छोड़े जाते हैं, उनके पुनरुद्धार की जिम्मेदारी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर जोर देती है। इस अवसर पर एआईबीईए से हरविन्द्र सिंह व जगदीश राय ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक देश की जीवन रेखा हैं। उन्हें ऐसा ही रहना चाहिए। हम सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के किसी भी कदम का पुरजोर विरोध करते हैं। यूएफबीयू (ट्राइसिटी) के संयोजक संजय कुमार शर्मा ने बैंकों के निजीकरण के लिए विधानों का विरोध करते हुए कहा कि बैंकिंग उद्योग में ट्रेड यूनियनों, हितधारकों के विरोध के बावजूद, सरकार अविश्वसनीय है और गर्दन तोड़ने की गति में गलत सुधारों को जारी रख रही है।  

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
चंडीगढ़ ब्रेकिंग न्यूज़ कपिल नागपाल के साथ क्यों की गई युवक की हत्या पढ़िए पूरी खबर
सप्ताह के अंत में 16 अप्रैल( शुक्रवार) को रात 10:00 बजे से सोमवार प्रात 5:00 बजे तक वीकेंड लॉक डाउन कहां हुआ पढ़िए पूरी खबर
चंडीगढ़ के पूर्व सांसद एवं भारत सरकार के अपर महासालिसिटर श्री सत्य पाल जैन ने बांटे। कोविड किट.
आने वाले दिनों में जजपा औऱ मजबूत होगी : ओपी सिहाग
रक्तदान शिविर में क्लब प्रेसीडेंट अनिता मिडा सहित लगभग 50 रक्तदाताओं ने रक्त दान किया
वेलफेयर संस्थाएं अपने क्षेत्र के निवासियों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें-परिंदा धार्मिक, सांस्कृतिक एवं चैरिटेबल संगठन अपना 52 वा स्थापना दिवस चंडीगढ़ ब्रेकिंग युवाओं के लिए खुशखबरी : आईटीआई में नए कोर्स शुरू करेगी प्रदेश सरकार*
जरूरतमंदों के लिए बनाए गए कोविड-19 राशन कार्ड धारकों में मासिक राशन का वितरण विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर किया