Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Chandigarh

निर्यात को गति देने के लिए 5 प्रतिशत आरओडीटीईपी दर की तत्काल जरूरत : एल्युमीनियम उद्योग

March 04, 2021 06:40 PM

निर्यात को गति देने के लिए 5 प्रतिशत आरओडीटीईपी दर की तत्काल जरूरत : एल्युमीनियम उद्योग
चंडीगढ, 4 मार्च :satya narayan gupta एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ  इंडिया ने वित्त और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय और वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय को लिखे पत्रों में आरओडीटीईपी के तहत एल्युमीनियम सेक्टर के लिए कम से कम 5 प्रतिशत रीमिशन रेट नोटिफाई करने की तत्काल जरूरत जताई है, जिससे घरेलू उद्योग वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनेगा और यह उद्योग निर्यात को दोगुना करने की अपनी क्षमता का प्रयोग कर सकेगा, जिससे देश को 10 अरब डॉलर की विदेशी मुद्रा की कमाई होगी।
एसोसिएशन के  अनुसार आरओडीटीईपी के तहत सेक्टर के हिसाब से छूट की दर नोटिफाई करने में हो रही देरी से असमंजस की स्थिति बन रही है और इसलिए वस्तुओं के मूल्य को लेकर भारतीय निर्यातकों में अनिश्चितता है, जिससे निर्यात पर दुष्प्रभाव पड़ रहा है। हाल में पेश किए गए आम बजट 2021-22 में आरओडीटीईपी के लिए 13,000 करोड़ रुपये के प्रावधान का एलान किया गया है। वित्त मंत्री द्वारा सितंबर, 2019 में आरओडीटीईपी स्कीम के लिए घोषित 50,000 करोड़ रुपये के आवंटन से यह बहुत कम है।
एमईआईएस को हटाने से निर्यातकों के लिए स्थिति और खराब हुई है। क्लेम करने के लिए ऑनलाइन एमईआईएस को ब्लॉक कर दिए जाने से निर्यातकों को वित्त वर्ष 2019-20 और वित्त वर्ष 2020-21 (अप्रैल-दिसंबर) के दौरान किए गए निर्यात के लिए भी एमईआईएस का लाभ नहीं मिल पाया है। इस कारण से पहले से ही दबाव में चल रहे नॉन-फेरस मेटल सेक्टर निर्यातकों का अच्छा-खासा फंड रुक गया है।
एक्सपोर्ट इंसेंटिवध्रीमिशन की कोई व्यवस्था नहीं होने से एल्युमीनियम निर्यात को अन्य बड़े निर्यातक देशोंए विशेष तौर पर चीन की तुलना में वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बने रहने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। चीन में निर्यात को प्रतिस्पर्धी बनाए रखने के लिए कई तरह की छूट दी जाती है। भारत में केंद्र एवं राज्य के स्तर पर कई टैक्स और शुल्क वसूले जाते हैं, जिनमें किसी तरह की छूट नहीं मिलती है, जिससे भारत में एल्युमीनियम सेक्टर के विकास पर बुरा असर पड़ रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
युवाओं के लिए खुशखबरी : आईटीआई में नए कोर्स शुरू करेगी प्रदेश सरकार*
जरूरतमंदों के लिए बनाए गए कोविड-19 राशन कार्ड धारकों में मासिक राशन का वितरण विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर किया
चंडीगढ़ बंग भवन में बांग्या समाज के लोगों ने बसंत मेले का आयोजन किया, क्या-क्या हुए कार्यक्रम पढ़िए पूरी खबर.. 48 श्रद्धालुओं ने किया माता के चरणों में उत्साह से रक्तदान
विज्ञान के साथ अध्यात्म को जोड़कर सुखमय जीवन बना सकते हैं। --अमरनाथ भाई
हिन्दू पर्वो में बढ़ता प्रशासनिक हस्तक्षेप चिन्ताजनक पंचकूला के राजीव कॉलोनी में शराब ठेके में लूट
मार्किट सेक्टर 17ए चंडीगढ़ में 60 रक्तदानियों ने किया रक्तदान
चंडीगढ़ प्रशासन का नया फरमान संगठित अपराध के खात्मे के लिए हरियाणा, पंजाब के डीजीपी की संयुक्त बैठक आयोजित*