Sunday, March 07, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Chandigarh

जमीन नहीं होने के बावजूद सिर्फ छतों के सहारे चंडीगढ़ सोलर एनर्जी के क्षेत्र में खासा नाम कमा चुका है।

December 14, 2020 08:16 PM

चंडीगढ़-  अग्रजन पत्रिका ब्यूरो-- जमीन नहीं होने के बावजूद सिर्फ छतों के सहारे चंडीगढ़ सोलर एनर्जी के क्षेत्र में खासा नाम कमा चुका है। मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रिन्यूअल एनर्जी (एमएनआरई) ने भी इसके लिए चंडीगढ़ प्रशासन की खूब तारीफ की। अब शहर का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट चंडीगढ़ में लगेगा। 12 मेगावाट का यह सोलर प्रोजेक्ट सेक्टर-39 वाटर वर्कर्स के वाटर टैंक पर लगेगा। दो साल में प्रोजेक्ट पूरा होगा। वाटर वर्कर्स में टैंक का आकार बड़ा कर इसकी स्टोरेज कैपेसिटी बढ़ाई जा रही है। हाल ही में प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने वर्चुअली इस प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया था। जिसमें टैंक को चौड़ा करने के साथ ही इसकी हाइट भी बढ़ेगी। जिसके बाद शहर की एक दिन की जरूरत का पानी स्टोर किया जा सकेगा। 39 करोड़ की लागत से यह प्रोजेक्ट पूरा होगा। दो साल में प्रोजेक्ट पूरा होते ही सोलर प्रोजेक्ट भी साथ ही इंस्टॉल किया जाएगा। इसके लिए नगर निगम ने चंडीगढ़ रिन्यूअल एनर्जी एंड साइंस एंड टेक्नोलॉजी प्रमोशन सोसायटी (क्रेस्ट) को एनओसी दे दी है। क्रेस्ट इस प्रोजेक्ट को नगर निगम के सहयोग से ही इंस्टाल करेगी। चंडीगढ़ में अभी तक पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज की बिल्डिंग पर लगा एक मेगावाट का प्राेजेक्ट सबसे बड़ा है। इसके अलावा सभी छोटे प्रोजेक्ट हैं। लेकिन अब वाटर वर्कस पर सीधे 12 मेगावाट का प्रोजेक्ट लगेगा। जो केंद्र सरकार से मिले लक्ष्य को हासिल करने में भी मदद करेगा। एमएनआरई ने 2022 तक 69 मेगावाट सोलर एनर्जी जेनरेट करने का लक्ष्य यूटी प्रशासन को दिया है। अभी तक जितने प्रोजेक्ट लगे हैं उनसे करीब 37 मेगावाट बिजली जेनरेट हो रही है। वाटर वक्र्स का प्रोजेक्ट शुरू होने के बाद 50 मेगावाट तक यह पहुंच जाएगा। इसके अलावा भी कई प्रोजेक्ट तब तक पूरे होंगे। जिससे लक्ष्य हासिल करना आसान हो जाएगा। सेक्टर-42 की न्यू लेक पार्किंग में सोलर प्रोजेक्ट लगाया जा रहा है। यह प्रोजेक्ट करीब 800 किलोवाट का होगा। इसकी खासियत यह है कि इससे जेनरेट होने वाली सोलर एनर्जी इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग के लिए होगी। प्रोजेक्ट के साथ ही इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन सेटअप किए जाएंगे। जिससे पार्किंग में ऐसे वाहन चार्ज हो सकें। इन वाहनों को बढ़ावा देने के लिए ऐसा किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट को इंस्टॉल करने का काम चल रहा है। इसके बाद सुखना लेक की पार्किंग और फिर शहर की दूसरी मार्केट में भी ऐसे प्रोजेक्ट लगाए जाएंगे। जिससे जेनरेट होने वाली एनर्जी को वाहनों की चार्जिंग के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
अंतरराष्टÑीय महिला दिवस पर समाज सेविका और फैशन सिलेब्रिटी शालू गुप्ता सम्मानित
शास्त्रीय गायिका डा. संगीता चौधरी सम्मानित
निर्यात को गति देने के लिए 5 प्रतिशत आरओडीटीईपी दर की तत्काल जरूरत : एल्युमीनियम उद्योग घर बैठे ट्राईसिटी के हजारो निरंकारी श्रद्धालु परिवारों ने वर्चुअल रूप में तीन दिवीसय 54वें प्रादेशिक निरंकारी सन्त समागम को देखकर आन्नद उठाया वास्तविक मनुष्य बनने के लिए मानवीय गुणों को अपनाना आवश्यक - सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज यज्ञनिष्ठ,कर्मठ समाजसेवी व आर्य समाजी थी सुमनलता गुप्ता -राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य फर्नीचर मार्किट सेक्टर 34सी चंडीगढ़ में लगा रक्तदान शिविर ब्राह्मण सभा धर्मशाला में लगा रक्तदान शिविर 60 रक्तदानियों ने किया रक्तदान *डीजीपी हरियाणा ने की ’हिफ़ाज़त’ अभियान की शुरूआत* प्रदुम्न सिंह एचसीएस की सेवाए चंडीगढ़ प्रशासन को सौंपी