Saturday, July 20, 2024
Follow us on
 
BREAKING NEWS
राज्य सरकार पंचकूला में पत्रकारिता विश्वविधालय स्थापित करने पर गंभीरता से करेगी विचार-विधानसभा अध्यक्ष*भाजपा पंचकूला ने अल्पसंख्यक मोर्चा के 4 मंडल अध्यक्षों की घोषणा कीजन सरोकार दिवस’ रैली को ऐतिहासिक बनाने के लिए कार्यकर्ता दिन रात एक कर दे - अजय सिंह चौटालानिर्यातक के घर के सामने जमकर प्रदर्शन किया और हर रोज धरना देने का फैसला लिया। कहां की है घटना पढ़िए पूरी खबरअभय सिंह की जीत के बावजूद किसान की करारी हार-- ऐलनाबाद उपचुनाव परिणाम की समीक्षा --- पढ़िए पूरा विश्लेषणमल्टीस्पेशलिटी चेकअप कैंप में 270 लोगों की जांच, 20 आपरेशनविधानसभा अध्यक्ष ने किया अमरटेक्स, इंडस्ट्रियल एरिया फेस-1 में फैक्ट्रियों के मालिकों व श्रमिकों/कर्मचारियों के लिये मैगा कोविशिल्ड वैक्सीनेशन कैंप का उद्घाटन।पेड़-पौधे लगाकर हम धरती माता का श्रृंगार कर सकते हैं: श्रवण गर्ग
 
 
 
Chandigarh

वरिष्ठ पत्रकार बलवंत तक्षक को 'तिलका मांझी' सम्मान

November 30, 2021 06:24 PM

चंडीगढ़, सत्यनारायण गुप्ता-. हरियाणा के वरिष्ठ पत्रकार बलवंत तक्षक को पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए तिलका मांझी राष्ट्रीय सम्मान, 2021 से सम्मानित किया गया है। तक्षक पिछले करीब 40 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत हैं। तक्षक को यह सम्मान दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में आयोजित समारोह में हरियाणा से राज्यसभा के सदस्य दुष्यंत गौतम ने दिया। समारोह में गांधीवादी विचारक राधा भट्ट और साहित्यकार सरिता चड्ढा विशिष्ठ अतिथि के रूप में मौजूद थीं।

 

यह सम्मान आज़ादी के अमृत महोत्सव पर प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी शुभकरण चूड़ीवाला की याद में दिया गया है। समारोह का आयोजन भागलपुर के अंग मदद फाउंडेशन, दिल्ली के स्पेशल कवरेज न्यूज़ और बिहार के युवा क्रांति रोटी बैंक की तरफ से किया गया था। गौरतलब है कि यह सम्मान वर्ष 2016 से महत्वपूर्ण कार्य करने वाली हस्तियों को दिया जाता रहा है।

 तिलका मांझी अपने देश में अंग्रेजों से लड़ने वाले पहले योद्धा थे। वे आदिवासियों के नायक हैं। उनको अंग्रेजों ने घोड़े के पीछे बांध कर कई मील तक घसीटा था। फिर भी उनकी मौत नहीं हुई तो उन्हें पेड़ पर लटका कर फांसी दी गई थी। यह पेड़ अभी तक इस फांसी का है। जिस जगह पर उनको फांसी दी गई थी, बाद में उस इलाके का नाम ही तिलका मांझी पड़ गया। तिलका मांझी के नाम से भागलपुर विश्वविद्यालय को भी जोड़ा गया है।

 इससे पहले तक्षक को हरियाणा सर्वश्रेष्ठ पत्रकार सम्मान, बाबू बाल मुकंद गुप्त पत्रकारिता पुरस्कार और छत्रपति अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। मूल रूप से राजस्थान में अलवर के रहने वाले तक्षक ने चंडीगढ़ में रहते हुए 31 वर्षों के दौरान कई दैनिक अख़बारों और टीवी चैनल्स में विभिन्न पदों पर काम किया है।

Have something to say? Post your comment
 
More Chandigarh News
यारो , अब पटियाला जेल में जमेगी महफिल
वार्ड नंबर 34 के पार्षद गुरप्रीत सिंह गाबी हुए सरगरम,
चंडीगढ़ एंड हरियाणा जर्नलिस्ट यूनियन ने पत्रकारों की मांगों बारे मुख्य सचिव को सौंपा ज्ञापन नववर्ष में निरपेक्ष भाव से हर किसी से प्रेम करते जायें - निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के नतीजों में आम आदमी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी, कांग्रेस पार्टी बाहर से समर्थन दे सकती है आम आदमी पार्टी को चंडीगढ़ क्रिकेट एकेडमी ने जीता जीएस वालिया कप
पेट्रोल पंप पर मॉक ड्रिल का आयोजन पंप पर तैनात कर्मचारियों को आग बुझाने को लेकर ट्रेनिंग सेशन
गुरदीप सिंह वालिया मेमोरियल महिला क्रिकेट टूर्नामेंट 21 से जनरल विपिन रावत जी एवं अन्य सैनिकों का हेलीकॉप्टर दुर्घटना में आकस्मिक निधन पर श्रद्धांजलि
कांग्रेस ने भाजपा के 6 साल के कुशासन के खिलाफ आरोप पत्र जारी किया