Friday, February 26, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
International

श्रीलंका धमाकों में शक की सुई इस संगठन पर, बौद्ध मूर्तियां तोड़ने में भी आया था नाम

April 22, 2019 10:19 PM

रविवार को श्रीलंका में इतिहास का सबसे भीषण हमला हुआ. इस द्वीपीय देश में 8 सीरियल ब्लास्ट में अब तक 290 लोगों की मौत हो चुकी है. मृतकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. इधर श्रीलंकाई पुलिस ने अब तक 24 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है. इस हमले को लेकर पहले से अलर्ट था.

पिछले साल सुर्खियों में आया था संगठन

10 दिन पहले के एक अलर्ट के मुताबिक श्रीलंका को एक विदेशी खुफिया एजेंसी ने सतर्क किया था. इसमें कहा गया था कि कोलंबो में बड़े चर्च और भारतीय उच्चायोग को निशाना बनाने का प्लान है. इसमें नेशनल तौहीद जमात नाम के एक कट्टरपंथी संगठन का नाम लिया गया था. नेशनल तौहीद जमात पर कट्टरपंथी वहाबी विचारधारा के प्रचार प्रसार का आरोप लगता रहा है. ये संगठन पिछले साल भी सुर्खियों में आया था जब इस पर श्रीलंका में बौद्ध मूर्तियां तोड़ने का आरोप लगा था.

9/11 और 26/11 के बाद तीसरा बड़ा हमला

पूरी दुनिया में पिछले 20 सालों में ऐसा भीषण हमला सिर्फ दो बार ही देखने को मिला है. पहला अमेरिका में 11 सितंबर 2001 जिसमें 3 हजार नागरिकों की मौत हुई थी या फिर भारत में 26/11, जिसमें 165 निर्दोष नागरिक मारे गए थे. श्रीलंका में भी आतंकवादियों ने जिस तरह का खूनी खेल खेला है, वो ना सिर्फ इसी पैमाने का आतंकी हमला है, जिस पैमाने पर 9/11 और 26/11 का हमला था, बल्कि ये हमारे सामने आतंकवादियों के खूनी मंसूबों की नई चुनौती भी है.

10 साल की शांति के बाद आतंक की खूनी वापसी

श्रीलंका का आतंकी हमला तो बेचैन कर देना वाला है क्योंकि श्रीलंका में 10 साल की शांति के बाद आतंक की खूनी वापसी हुई है. श्रीलंका एक ऐसा देश है, जिसने 30 साल तक गृह युद्ध और आतंकवाद झेला है. 2009 में गृह युद्ध के खात्मे के बाद श्रीलंका में शांति लौटी, लेकिन अब फिर से आतंक की आहट चिंता बढ़ा रही है.

इन 8 जगहों पर हुए धमाके

रविवार को ईसाई धर्म के अनुयायियों के लिए ईस्टर का पवित्र दिन था. आतंकवादियों ने कत्लेआम के लिए इसी दिन को चुना. उन्होंने श्रीलंका की राजधानी कोलंबो के बड़े चर्चों पर टारगेट किया. पहला ब्लास्ट सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर राजधानी कोलंबो के कैथोलिक चर्च सेंट एंथनी में हुआ. दूसरा ब्लास्ट कोलंबो के बाहरी इलाके के नेगोंबो में सेंट सबैस्टियन चर्च में हुआ. इसी के तुरंत बाद कोलंबो से करीब 300 किलोमीटर दूर बैटीक्लो शहर में तीसरे चर्च में ब्लास्ट की ख़बर आई. इसके बाद कोलंबो के तीन फाइव स्टार होटल में धमाके हुए, जिसमें शंगरीला, सिनैमॉन ग्रैंड और किंग्सबरी शामिल थे. बाद में दो और ब्लास्ट हुए, जिनमें कोलंबो के नेशनल ज़ू के पास के एक होटल और दूसरा ब्लास्ट डमेटोगोड़ा के एक घर में हुआ.

छापेमारी में 3 अफसरों की मौत

श्रीलंकाई मीडिया के मुताबिक 8 में से कम से कम 2 जगहों पर हमलों में आत्मघाती हमलावर शामिल थे. बाद में श्रीलंका सरकार ने कन्फर्म किया कि ज़्यादातर हमलों में आत्मघाती हमलावर शामिल थे. ये भी बताया गया कि ये हमला एक ही संगठन के लोगों ने सुनियोजित साज़िश के तहत अंज़ाम दिया. श्रीलंका पुलिस ने कोलंबो के एक घर में छापा मार कर 7 संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया. बताया गया कि इस छापेमारी में और संदिग्धों को पकड़ने में श्रीलंका पुलिस के 3 अफसर मारे गए. पुलिस का कहना है कि वो पक्के तौर पर अभी ये नहीं कह सकते कि इस हमले के पीछे कौन लोग हैं?

10 दिन पहले मिला था अलर्ट

आज से 10 दिन पहले ही श्रीलंका पुलिस ने ऐसे किसी आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया था, जिसमें ये कहा गया था कि इस्लामिक कट्टरपंथी संगठनों का श्रीलंका के बड़े चर्चों पर हमला करने का प्लान है.

Have something to say? Post your comment
More International News
किस्मत हो तो ऐसी* *👉जिस लॉटरी टिकट को लेने से कर रहा था इनकार, उसी से रातोंरात बन गया करोड़पति* WHO की चेतावनी, लॉकडाउन से ढील देने में जल्दबाजी से फिर बढ़ सकता है कोरोना संक्रमण
---मैटरहॉर्न पर्वत पर एक हजार मीटर का तिरंगा बनाकर स्विट्जरलैंड ने भारत की एकजुटता की यूं तारीफ
---डोनाल्ड ट्रंप की चीन को खुली चेतावनी, संक्रमण फैलाने के परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं
---करतारपुर साहिब में तेज हवाओं से गुरुद्वारे के गुंबद क्षतिग्रस्त, इमरान सरकार पर खड़े हुए सवाल
---COVID 19: धार्मिक नेता के जनाजे में शामिल हुए 50,000 लोग, तस्लीमा नसरीन ने कहा-सरकार बेवकूफ है
ट्रंप ने ट्वीट कर किया बड़ा ऐलान, बगदादी के बाद उसका उत्तराधिकारी भी ढेर
UAE ने अंतरिक्ष में अपना पहला एस्ट्रोनॉट भेजा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- हमें प्रेरणा मिली
भूकंप से पाकिस्तान और PoK में भारी तबाही, 19 लोगों की मौत, 300 घायल
PAK को ट्रंप ने दिया झटका, इमरान के सामने कहा- भारत से रिश्ते अच्छे