Saturday, February 27, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Entertainment

WEF रिपोर्ट: वर्क प्लेस में महिला-पुरुष में भेदभाव खत्म होने में लगेंगे 200 साल

December 19, 2018 09:46 PM

भारत में महिला और पुरुष में असमानता की खाई में कोई कमी नहीं आई है. वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम की ताजा रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि स्त्री-पुरुष असमानता सूचकांक में भारत 108वें स्थान पर रहा है.

पिछले साल भी भारत 108वें पायदान पर ही था. यह खाई फिलहाल पूरी दुनिया में बरकरार है. रिपोर्ट के मुताबिक जिस हिसाब से अभी इसके लिए प्रयास हो रहे हैं, इसमें पूरी दुनिया में सभी क्षेत्रों में महिला-पुरुण असमानता को अगले 108 साल तक दूर नहीं किया जा सकता. वर्क प्लेस में ये खाई और ज्यादा है, जिसे पाटने में 200 साल लग सकते हैं.  

विश्व आर्थिक मंच ने मंगलवार को वैश्विक स्त्री-पुरुष असमानता रिपोर्ट 2018 जारी की. इसमें खुलासा हुआ है कि भारत में एक ही कार्य के लिये मेहनताने की समानता में सुधार हुआ है. पहली बार तृतीयक शिक्षा में स्त्री-पुरुष असमानता की खाई पाटने में सफलता मिली है. आर्थिक अवसर एवं भागीदारी उप-सूचकांक में देश को 149 देशों में 142वां स्थान मिला है.

विश्व आर्थिक मंच स्त्री-पुरुष असमानता को चार मुख्य कारकों आर्थिक अवसर, राजनीतिक सशक्तिकरण, शैक्षणिक उपलब्धियां तथा स्वास्थ्य एवं उत्तरजीविता के आधार पर तय करता है.

मंच ने कहा कि भारत को महिलाओं की भागीदारी से लेकर वरिष्ठ एवं पेशेवर पदों पर अधिक महिलाओं को अवसर देने तक में सुधार की जरूरत है. मंच ने यह भी कहा कि भारत स्वास्थ्य एवं उत्तरजीविता उप-सूचकांक में तीसरा सबसे निचला देश बना हुआ है. हालांकि इनके अलावा कुछ चीजें सकारात्मक भी हुई हैं। समान कार्य के लिये मेहनताने के स्तर पर भारत ने स्थिति में कुछ सुधार किया है और 72वें स्थान पर रहा है.

Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
--हरियाणा के विद्यार्थी करेगें आस्ट्रेलिया की वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी से आॅनलाइन पढ़ाई हाईकोर्ट ने मुख्य आरोपी भूपेंद्र सिंह के भाई को दी राहत
गुजरे जमाने की मशहूर ऐक्ट्रेस विद्या सिन्हा का गुरुवार 15 अगस्त को मुंबई में निधन
रायपुररानी क्षेत्र के दो कलाकारो ने किया बडे पर्दे की मूवी मे काम -31 मई को होगी रिलीज गिप्पी ग्रेवाल, सरगुन मेहता ने इंडियन मोटरसाइकल राइड में अपनी फिल्म को प्रमोट किया पंचकूला सेक्टर 16 की पूनम सहगल को दिल्ली में नेशनल अवॉर्ड स्टार अचीवर अवार्ड से किया गया सम्मानित रेनबो लेडीज क्लब ने मनाई फूलो की होली* *जाने माने पॉलीवूड एक्टर सिंह परमवीर रहे मुखय अतिथि* कादर खान की मौत से दुखी डेविड धवन, बोले- भाईजान जैसा कोई नहीं अनुपम खेर बोले- कोई और देश होता तो ऑस्कर में जाती The Accidental Prime Minister ईशा अंबानी की शादी, सचिन से हिलेरी क्ल‍िंटन तक, पहुंचे ये मेहमान