Sunday, February 28, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Entertainment

भारत-पाक को पाठ पढ़ाने वालीं शायर फहमीदा का इस्लामाबाद में निधन

November 22, 2018 09:07 PM

पाकिस्तान की प्रसिद्ध लेखिका व कवयित्री फहमीदा रियाज का बुधवार को इस्लामाबाद में निधन हो गया. वह 72 साल की थीं. पाकिस्तान से होने के बावजूद फ़हमीदा भारत को पाकिस्तान जैसा बनते नहीं देखना चाहती थीं. भारत में मशहूर हुई उनकी कविता, 'तुम हम जैसे ही निकले' में उन्होंने यही मैसेज दिया है. उन्होंने लिखा, "तुम बिल्कुल हम जैसे निकले, अब तक कहाँ छुपे थे भाई? वो मूर्खता, वो घामड़पन, जिसमें हमने सदी गँवाई.

फहमीदा को महिलाओं के मुद्दों को साहित्य के जरिए उठाने वाली बेहद खास लेखिकाओं में से एक जाना जाता है. 'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, नारीवादी साहित्य में अग्रणी लेखिका के रूप में सम्मानित प्रगतिशील लेखिका पिछले कुछ महीनों से अस्वस्थ थीं.

फहमीदा एक मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में भी जानी जाती थीं. उन्होंने 15 से अधिक किताबें लिखी थीं. भारत के मेरठ में वर्ष 1946 में एक साहित्यिक परिवार में जन्मीं फहमीदा ने साहित्य के अलावा सामाजिक और राजनीतिक गतिविधियों में भी सक्रिय भूमिका निभाई. वह भारत में छह वर्षों तक आत्म-निर्वासन में रही थीं जब सैन्य तानाशाह जनरल जिया-उल-हक का पाकिस्तान पर शासन था.

दिवंगत बेनजीर भुट्टो के प्रधानमंत्री के रूप में दूसरे कार्यकाल के दौरान फहमीदा सांस्कृतिक मंत्रालय से जुड़ीं थीं. वर्ष 2009 में फहमीदा को कराची के उर्दू डिक्शनरी बोर्ड का मुख्य संपादक नियुक्त किया गया था. प्रसिद्ध पाकिस्तानी लेखिका कामिला शमशी ने फहमीदा के निधन पर दुख जताते कहा कि वह तानाशाही के स्याह दिनों की चमकदार रोशनी थीं."

Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
--हरियाणा के विद्यार्थी करेगें आस्ट्रेलिया की वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी से आॅनलाइन पढ़ाई हाईकोर्ट ने मुख्य आरोपी भूपेंद्र सिंह के भाई को दी राहत
गुजरे जमाने की मशहूर ऐक्ट्रेस विद्या सिन्हा का गुरुवार 15 अगस्त को मुंबई में निधन
रायपुररानी क्षेत्र के दो कलाकारो ने किया बडे पर्दे की मूवी मे काम -31 मई को होगी रिलीज गिप्पी ग्रेवाल, सरगुन मेहता ने इंडियन मोटरसाइकल राइड में अपनी फिल्म को प्रमोट किया पंचकूला सेक्टर 16 की पूनम सहगल को दिल्ली में नेशनल अवॉर्ड स्टार अचीवर अवार्ड से किया गया सम्मानित रेनबो लेडीज क्लब ने मनाई फूलो की होली* *जाने माने पॉलीवूड एक्टर सिंह परमवीर रहे मुखय अतिथि* कादर खान की मौत से दुखी डेविड धवन, बोले- भाईजान जैसा कोई नहीं अनुपम खेर बोले- कोई और देश होता तो ऑस्कर में जाती The Accidental Prime Minister WEF रिपोर्ट: वर्क प्लेस में महिला-पुरुष में भेदभाव खत्म होने में लगेंगे 200 साल