Sunday, October 24, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
मल्टीस्पेशलिटी चेकअप कैंप में 270 लोगों की जांच, 20 आपरेशनविधानसभा अध्यक्ष ने किया अमरटेक्स, इंडस्ट्रियल एरिया फेस-1 में फैक्ट्रियों के मालिकों व श्रमिकों/कर्मचारियों के लिये मैगा कोविशिल्ड वैक्सीनेशन कैंप का उद्घाटन।पेड़-पौधे लगाकर हम धरती माता का श्रृंगार कर सकते हैं: श्रवण गर्गहरियाणा में येलो अलर्ट: 29 मई तक पड़ेगी तेज गर्मी, 30 और 31 मई को अंधड़ व बूंदाबांदी ।। जींद में कोरोना महामारी के बीच नगर के रेलवे रोड पर स्थित सब्जी मंडी में उमड़ रही लोगों की भीड़पंचकूला मौत का कुछ नही पता कब आ जाये ऐसा ही वाक्या देखने को मिला सेक्टर 20 पंचकूला में* गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर
 
 
 
Panchkula

परंपरागत खेती में बदलाव करते हुए फसल विविधीकरण पर जोर देना समय की मांग

October 08, 2021 05:56 PM

पचंकूला, 8 अक्तूबर- सत्यनारायण गुप्ता- चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार के कृषि विज्ञान केंद्र, पंचकूला द्वारा गाँव हंगोला, ब्लॉक रायपुररानी में औषधीय एवं सुगन्घित पौधों की वैज्ञानिक खेती के बारे में व्यवसायिक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। 

इस मौके पर केंद्र की इंचार्ज डॉ श्री देवी तल्ला प्रगड़ा ने कहा कि परंपरागत खेती में बदलाव करते हुए फसल विविधीकरण पर जोर देना समय की मांग है। वर्तमान समय में इस बात पर जोर दिया जाना चाहिए कि परंपरागत कृषि पद्धति में बदलाव करके किसानों को औषधीय पौधों की खेती की ओर ध्यान देना चाहिए, जिससे किसान की आमदनी में भी इजाफा हो सके। उपभोक्ता, बाजार, व्यापार और मार्केट की मांग के अनुरूप फसलों का उत्पादन किया जाना चाहिए ताकि किसान को अधिक से अधिक लाभ हासिल हो सके। वर्तमान समय में एकल फसल प्रणाली को छोड कर समन्वित कृषि प्रणाली को अपनाना ही एकमात्र विकल्प है। औषधीय पोधों का महत्व बताते हुए उन्होंने कहा कि औषधीय पौधे न केवल अपना औषधीय महत्व रखते हैं बल्कि आय का भी एक जरिया बन जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे शरीर को निरोगी बनाये रखने में औषधीय पौधों का अत्यधिक महत्व होता है। 

सस्य वैज्ञानिक डॉ वंदना ने बताया कि औषधीय पौधों का महत्व उसमें पाए जाने वाले रसायन के कारण होता है। औषधीय पौधे खांसी एवं वातकाशमन करने, पीलिया, हैजा, फेफड़ा, अण्डकोष, तंत्रिका विकार, दीपन, पाचन, उन्माद, रक्तशोधक, ज्वरनाशक, स्मृति एवं बुद्धि का विकास करने, मधुमेह, मलेरिया एवं बलवर्धक, त्वचा रोगों एवं ज्वर आदि में लाभकारी हैं। औषधीय पौधे जैसे घृत कुमारी, तुलसी, ब्राम्ही, हल्दी, सदाबहार, शतावर, मुलहटी आदि की वैज्ञानिक खेती करके काफी लाभ प्राप्त किया जा सकता है। सुगंधित पौधों जैसे लेमन ग्रास, सिट्रोनेला, तुलसी, जिरेनियम पामारोजा/रोशाग्रास के बारे में भी किसानो को जानकारी दी गयी । इस मौके पर कृषि वैज्ञानिक डॉ गुरनाम सिंह औरडॉ राजेश ने भी अपने विचार किसानों के साथ साँझा किये ।

//

Have something to say? Post your comment
 
More Panchkula News
उपायुक्त विनय प्रताप सिंह की अध्यक्षता में जिला योजना समिति के 5 सदस्यों का सर्वसम्मति से किया चयन।
बाल सदन सैक्टर 12 पंचकूला में कार्यक्रम आयोजित किया गया ।
19 लाख 28 हजार 893 रूपए की राशि दान स्वरूप प्राप्त की।
हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने पीएसए आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र का किया उदघाटन
रमनीक सिंह मान को करवाया पदभार ग्रहण - ज्ञान चंद गुप्ता ने
पंचकूला पुलिस नें नवरात्रो मेला पर माता मन्सा देवी मन्दिर में किए कडे सुरक्षा के प्रबंन्ध
13575 मीट्रिक टन धान की, की जा चुकी है खरीद-उपायुक्त विनय प्रताप सिंह
पंचकूला से प्रकाशित मासिक समाचार पत्र *दिशा मार्ग* का लोकार्पण अपने हाथों से किया । उपायुक्त ने
एक ईंट शहीद के नाम अभियान की टीम ने राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से की मुलाकात
फर्जी कस्टमर केयर नंबरों से सावधान रहें ।मोहित हांडा