Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
National

जब तक एफआईआर दर्ज नहीं होती, सीबीआई जांच के आदेश कैसे दिए जा सकते हैं.. बॉम्बे हाई कोर्ट

March 31, 2021 05:37 PM
 
जब तक एफआईआर दर्ज नहीं होती, सीबीआई जांच के आदेश कैसे दिए जा सकते हैं.. बॉम्बे हाई कोर्ट
 
बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) की अर्जी पर सुनवाई हुई. इस दौरान जज ने अब तक इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं होने पर सवाल उठाया और कहा कि जब तक एफआईआर दर्ज नहीं होती, सीबीआई जांच के आदेश कैसे दिए जा सकते हैं. बता दें परमबीर सिंह ने याचिका में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की है.
 
चीफ जस्टिस ने कहा- बिना एफआईआर, सीबीआई जांच नहीं
मामले की सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) के चीफ जस्टिस ने कहा कि आप एक उदाहरण दिखाइए, जब बिना FIR दर्ज किए हाई कोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दिए हों. मैं पुलिस को FIR का आदेश दूंगा फिर जांच सीबीआई को सौंप दी जा सकती है.
 
इस याचिका में व्यक्तिगत रूचि: एडवोकेट जनरल
सुनवाई के दौरान एडवोकेट जनरल (Advocate General) आशुतोष कुम्भकोणी ने कहा है कि ये जनहित याचिका योग्य नहीं है, इसमें व्यक्तिगत रूचि है. सुप्रीम कोर्ट में सिविल साइड में व्यक्तिगत पिटीशन दी गई थी, जबकि हाइ कोर्ट में क्रिमिनल साइड में जनहित याचिका दी गई है. कुम्भकोनी ने फैसले का उदाहरण देते हुए कहा कि इसमें 'स्वच्छ हृदय और स्वच्छ मन' की बात कही गई है, लेकिन यहां हाथ और मन दोनों गंदे हैं.
 
सुप्रीम कोर्ट ने दिया था हाई कोर्ट जाने का आदेश
बता दें कि कि इससे पहले मुंबई पुलिस कमिश्ननर पद से तबादले के बाद परबीर सिंह (Param Bir Singh) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में याचिका दायर की थी. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट में जाने का आदेश दिया था. इसके बाद परमबीर सिंह ने 25 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में दायर रिट को बॉम्बे हाई कोर्ट में जनहित याचिका में तब्दील कर दिया.
 
परमबीर सिंह ने लगाए थे गंभीर आरोप
मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) चाहते थे कि पुलिस अधिकारी बार और होटलों से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करके उन्हें पहुंचाएं.
Have something to say? Post your comment
 
More National News
सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे विद्यार्थी : सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग जारी* बुखार-खांसी नहीं फिर भी सावधान! ये हैं कोरोना के नए स्ट्रेन के खतरनाक लक्षण* स्वास्थ्य विभाग ने दिल्ली में किया लिंग जांच गिरोह का पर्दाफाश, 7 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज
जल संकट से निपटने के लिए ब्रिक्स राष्ट्र को एक दूसरे के अनुभव से सीखना चाहिए। - रतन लाल कटारिया
अधिकारियों के द्वारा बनाया जा रहा वैनडिंग जोन के विरोध में रोश जताया। *दिल्ली में वेंटिलेटर और आईसीयू बेड्स की कमी* ........ *देश में 24 घंटे में 131000 से ज्यादा नए केस 802* *दिल्ली सरकार ने पत्रकारों को नाइट कर्फ्यू में दी राहत* *पश्चिम बंगाल चुनाव* *कुछ संभावित तथ्य* काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण कराए जाने की अदालत से मिली मंजूरी जानिए क्या है खबर..