Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
National

कोरोना वायरस को लेकर विश्व के प्रख्यात वैज्ञानिकों ने टेंशन में डालने वाला दावा किया

March 31, 2021 05:01 PM
कोरोना वायरस  को लेकर विश्व के प्रख्यात वैज्ञानिकों ने टेंशन में डालने वाला दावा किया है। विश्व के प्रख्यात महामारी विशेषज्ञों और वायरोलॉजिस्ट ने खुलासा किया है कि महज एक साल से कम वक्त में विश्व को फिर से कोरोना वायरस वैक्सीन की जरूरत होगी। और वैक्सीन की पहली जेनरेशन एक साल के अंदर ही इंसानी शरीर के लिए अप्रभावी हो जाएंगी। कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर पिपल्स वैक्सीन अलायंस ने सर्वे करवाया है। जिसमें अमेनेस्टी इंटरनेशनल, यूएनएआईडीएस और ऑक्सफाम जैसी संस्थाओं ने हिस्सा लिया है। ये सर्वे विश्व के 28 से ज्यादा देशों में किया गया है। जिसमें पाया गया है कि दो तिहाई से ज्यादा नतीजों में उत्तर मिले हैं कि इस्तेमाल होने वाली वैक्सीन की वैलिडिटी महज एक साल है। वहीं, एक तिहाई से ज्यादा जबाव में पाया गया कि  इस्तेमाल की जानी वाली वैक्सीन का 9 महीने से कम वक्त बचा है। इस सर्वे में 28 देशों के 77 महामारी विशेषज्ञ वैज्ञानिक और वायरोलॉजिस्ट ने हिस्सा लिया था।इस सर्वे में पाया गया है कि विश्व के ज्यादातर देशों में वैक्सीनेशन की रफ्तार काफी सुस्त है। जिसकी वजह से कोरोना वैक्सीन का नया वेरिएंट इस वैक्सीन को बायपास कर सकता है। यानि, जिन लोगों को वैक्सीन नहीं लगा है, उनको नया वेरिएंट शिकार बना सकता है और तबतक जिन लोगों को वैक्सीन लगा है, उनके अंदर में मौजूद वैक्सीन बेअसर हो जाएगी और कोरोना वायरस का कहर लगातार बना रहेगा। इस सर्वे में हिस्सा लेने वाले 88 प्रतिशत वैज्ञानिक बड़े संस्थानों के वैज्ञानिक हैं। जिनमें से जॉन हॉपकिन्स, येल, इम्पीरियल कॉलेज भी शामिल हैं।
 
 

 

Have something to say? Post your comment
 
More National News
सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे विद्यार्थी : सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग जारी* बुखार-खांसी नहीं फिर भी सावधान! ये हैं कोरोना के नए स्ट्रेन के खतरनाक लक्षण* स्वास्थ्य विभाग ने दिल्ली में किया लिंग जांच गिरोह का पर्दाफाश, 7 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज
जल संकट से निपटने के लिए ब्रिक्स राष्ट्र को एक दूसरे के अनुभव से सीखना चाहिए। - रतन लाल कटारिया
अधिकारियों के द्वारा बनाया जा रहा वैनडिंग जोन के विरोध में रोश जताया। *दिल्ली में वेंटिलेटर और आईसीयू बेड्स की कमी* ........ *देश में 24 घंटे में 131000 से ज्यादा नए केस 802* *दिल्ली सरकार ने पत्रकारों को नाइट कर्फ्यू में दी राहत* *पश्चिम बंगाल चुनाव* *कुछ संभावित तथ्य* काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण कराए जाने की अदालत से मिली मंजूरी जानिए क्या है खबर..