Sunday, June 20, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
पेड़-पौधे लगाकर हम धरती माता का श्रृंगार कर सकते हैं: श्रवण गर्गहरियाणा में येलो अलर्ट: 29 मई तक पड़ेगी तेज गर्मी, 30 और 31 मई को अंधड़ व बूंदाबांदी ।। जींद में कोरोना महामारी के बीच नगर के रेलवे रोड पर स्थित सब्जी मंडी में उमड़ रही लोगों की भीड़पंचकूला मौत का कुछ नही पता कब आ जाये ऐसा ही वाक्या देखने को मिला सेक्टर 20 पंचकूला में* गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डा
 
 
 
National

री गुरू रविदास जी ने समता-मूलक और भेदभाव-मुक्त सुखमय समाज की कल्पना की थी: राष्टÑपति रामनाथ कोविंद ने श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के चौथे राष्टÑीय अधिवेशन को किया संबोधित

February 22, 2021 06:28 PM

श्री गुरू रविदास जी ने समता-मूलक और भेदभाव-मुक्त सुखमय समाज की कल्पना की थी:
राष्टÑपति रामनाथ कोविंद ने श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के चौथे राष्टÑीय अधिवेशन को किया संबोधित
चंडीगढ़।अग्रजन पत्रिका ब्यूरो-- संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के राष्टÑीय प्रवक्ता एवं चंडीगढ़ के प्रभारी कुलदीप मेहरा ने जानकारी दी कि संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के चौथे राष्टÑीय अधिवेशन को राष्टÑपति रामनाथ कोविंद ने संबोधित किया। यह अधिवेशन नई दिल्ली के विज्ञान भवन में किया गया। इस अधिवेशन में मुख्यातिथि महामहिम राष्टÑपति रामनाथ कोविंद, विशिष्ट अतिथि राज्यपाल हरियाणा सत्यदेव नारायण आर्य एवं राज्यपाल उत्तराखंड बेबी रानी मौर्या रहें।
अधिवेशन को संबोधित करते हुऐ कोविंद ने कहा कि संत श्री गुरू रविदास ने समता-मूलक और भेदभाव-मुक्त समाज की सुखमय समाज की संकल्पना को रेखांकित करते हुए कहा कि ऐसे समाज एवं राष्टÑ के निर्माण के लिये संकल्पबद्ध होकर काम करना हम सभी का कर्तव्य है जहां समाज में समता रहे और लोगों की मूलभूत आवश्यकताएं पूरी होती रहें। उन्होंने कहा कि गुरु रविदास जी जैसे संतों का आगमन सदियों में होता है गुरु जी चाहते थे कि सबका पेट भरे, कोई भूखा न रहे, सबका भला हो। उन्होंने कहा कि अच्छा इंसान वह है जो संवेदनशील है, समाज की मानवोचित मर्यादाओं का सम्मान तथा कायदे-कानून और संविधान का पालन करता है।
उन्होंने कहा कि यदि ऐसे संत शिरोमणि रविदास को किसी विशेष समुदाय तक बांध कर रखा जाता है तो मेरे विचार से, ऐसा करना, उनकी सर्व-समावेशी उदारता के अनुसार नहीं है। संत की न कोई जाति होती है, न संप्रदाय और न ही कोई क्षेत्र बल्कि पूरी मानवता का कल्याण ही उनका कार्य क्षेत्र होता है। इसीलिए संत का आचरण सभी प्रकार के भेद-भाव तथा संकीर्णताओं से परे होता है। कार्यक्रम की सफलता के लिए राष्टÑपति जी ने संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के सभी पदधिकारियों को बधाई दी।
वही महापीठ के अंतरराष्टÑीय अध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद रविदास रत्न दुष्यंत कुमार गौतम ने राष्टÑपति का विश्व महापीठ के अधिवेशन में पहुंचने पर विशेषतौर पर अभिनंदन किया क्योंकि ऐसा पहली बार हुआ है जब राष्टÑपति जी गुरु रविदास जी से जुड़े किसी धार्मिक कार्यक्रम में उपस्थित हुऐ हों। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि जिस भगवान ने इस हाड़ मांस के इंसान को बनाया है। वह च-चमडी, मा-मांस, र-रक्त इस प्रकार चमार का अर्थ हुआ सारा मानव जगत ही चमार है।

Have something to say? Post your comment
 
More National News
मणिपुर से इजरायल जाने वाले 67 कोरोना मरीजों जो सेंटर पॉजिटिव भर्ती हुए थे नेगेटिव होकर पूरे सम्मान के साथ रवाना किए फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए 6 क्रैश कोर्स शुरू:PM मोदी बोले- वायरस के आगे भी म्यूटेड होने की आशंका; आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार रहना होगा।*
एकजुट रही आइएमए* *राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस सफल ~ आइएमए*
कोरोना काल के बाद मीडिया की बदलती भूमिका पर संगोष्ठी
लोजपा में दो फाड़: पशुपति कुमार पारस बने राष्ट्रीय अध्यक्ष, कार्यकारिणी बैठक में लिया गया फैसला l lol 18 को राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस ~ आइएमए* 30 जून 2021 तक वैध माने जाने वाले वाहनों के फिटनेस, परमिट, RC, DL आदि की वैधता अब 30 सितंबर तक बढ़ा दी है। सोनिया-राहुल ने वैक्सीन लगवाई या नहीं? कांग्रेस ने संबित पात्रा के सवालों का दिया जवाब कोरोना: शव का अंतिम संस्कार करने वालों ने जेब से निकाला एटीएम, स्कूल क्लर्क के अकाउंट से उड़ाए 1.6 लाख रुपए CBSE 12वीं बोर्ड: 10वीं-11वीं के नंबरों से तय होगा रिजल्ट, 31 जुलाई को नतीजे होंगे घोषित.