Saturday, January 16, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Punjab

शिरोमणि अकाली दल कई बार टूटा, कई शाखाएं फूंटी, लेकिन कभी भी पार्टी को विश्वास के संकट से नहीं जूझना पड़ा।

December 13, 2020 07:13 PM
चंडीगढ़-- अग्रजन पत्रिका ब्यूरो--देश की सबसे पुरानी क्षेत्रीय पार्टी शिरोमणि अकाली दल कल 14 दिसंबर को 100 साल की हो जाएगी। इस 100 सालों के इतिहास में शिरोमणि अकाली दल कई बार टूटा, कई शाखाएं फूंटी, लेकिन कभी भी पार्टी को विश्वास के संकट से नहीं जूझना पड़ा। जब अकाली दल अपना स्वर्णिम 100 वर्ष का इतिहास लिखने जा रहा है तो आज पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती विश्वास की है। कभी ऐतिहासिक गुरुद्वारों को महंतों के कब्जे से आजाद करवाने के लिए तैयार की गई यह पार्टी आज अपने सबसे बड़े दो स्तंभ पंथ और किसानों के विश्वास बहाली के लिए जूझ रही है। शिरोमणि अकाली दल के 100 साल के इतिहास को पलट कर देखा जाए तो संघर्ष इस पार्टी का अभिन्न अंग रहा है। गुरुद्वारा सुधार लहर से दल का गठन हुआ जो ब्रिटिश शासन के अधीन थे। यही वजह थी कि अकालियों को गुरुद्वारों की स्वतंत्रता में देश की स्वतंत्रता की भी झलक दिखती थी। ननकाना साहिब को आजाद करवाने के लिए बड़ी लड़ाई लड़ी गई, जिसमें 130 अकाली शहीद हो गए।  हंत नारायण दास को ब्रिटिश प्रशासन का समर्थन था। चाबियों का मोर्चा, जैतो का मोर्चा समेत कई मोर्चे अकाली दल ने गुरुद्वारा साहिबान को आजाद करवाने के लिए लड़े। इन गुरुद्वारों पर अपना प्रबंध बनाने के लिए 1925 में गुरुद्वारा एक्ट पास करवाया गया। चाहे आजादी की लड़ाई हो या पंजाबी सूबा बनाने की। पंजाब के पानी की लड़ाई हो या दिल्ली सिख दुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की स्थापना की। शिरोमणि अकाली दल के पांव कभी डगमगाए नहीं।
पंजाब पूरे देश में एक मात्र एसा राज्य है जिसका बंटवारा भाषा के आधार पर हुआ। राजसी तौर पर जीवित रहने के लिए अकाली दल ने आंदोलन किया। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को अंततः अकालियों के आंदोलन के आगे झुकना पड़ा। 1966 में पंजाब का विभाजन हुआ। तब से लेकर आज तक अकाली दल में कई बार विभाजन का दौर देखा कई बार अकाली दल टूटा, लेकिन अकाली दल में कभी भी विश्वास का संकट नहीं उत्पन्न हुआ। अक्टूबर 2015 में पंजाब में गुरुग्रंथ साहिब की बेअदबी के बाद अकाली दल पर अविश्वास के बादल मंडराने लगे। बेअदबी कांड के बाद पंथक वोट बैंक में अविश्वास का घुन लग गया। पंथक वोट बैंक को बचाए रखने के अकाली दल के सारे प्रयास व्यर्थ साबित हुए। 2017 के विधानसभा चुनाव में अकाली दल हाशिये पर आ गई। चुनाव में अकाली दल को मात्र 15 सीटें ही मिली। किसी भी पार्टी के लिए 100 साल पूरा होना बड़े फख्र की बात होती है, लेकिन अकाली दल 100 साल पूरा होने पर जश्न नहीं मना सकी। पंथ के बाद किसान वोट बैंक अकाली दल से खिसक रहा था। किसान दिल्ली में तीन कृषि सुधार बिलों को रद करवाने के लिए धरना लगाकर बैठे हुए है। ऐसे में अकाली दल 14 दिसंबर को अपने 100 वर्ष पूरे होने के समारोह को नहीं मनाया।
राजनीतिक रूप से अकाली दल के सामने वर्तमान स्थिति सबसे बड़ा संकट भरा है। एक तरफ पंथक वोट बैंक उनसे खिसक रहा है। वहीं, केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि सुधार बिलों का समर्थन करने के कारण किसान अकाली दल से नाराज हो गए, जबकि किसान कभी अकाली दल के कट्टर समर्थक माने जाते थे। किसान वोट को बचाने के लिए अकाली दल ने केंद्र में अपनी कैबिनेट की कुर्सी छोड़ दी। 24 साल पुराना भाजपा से नाता तोड़ लिया। पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने पद्म विभूषण का पुरस्कार वापस करने की घोषणा कर दी। इस सबके बावजूद किसान पुनः अकाली दल पर विश्वास नहीं कर पा रहे हैं।
Have something to say? Post your comment
More Punjab News
कोविड-19 सरवाईवर्स, हॉस्पिटल स्टाफ ने जीरकपुर में मनाई लोहड़ी
होशियारपुर स्वास्थ्य अधिकारियों को सौंपा फस्र्ट रिस्पॉन्डर वाहन
कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन के दौरान अपनी जान कुर्बान करने वाले 57 किसानों की याद में पंजाब कांग्रेस ने चंडीगढ़ में पैदल मार्च किया श्री गुरू तेग बहादुर जी का 400 साला प्रकाश पर्व ‘गुरू तेग बहादुर-हिंद की चादर’ के विषय पर मनाएगी पंजाब सरकार - चन्नी बलटाना में आयोजित हेल्थ कैम्प में 110 लोगों ने जांच करवाई नववर्ष की पूर्व संध्या पर होने वाले समारोहों को देखते हुए पंजाब सरकार के गृह विभाग ने कोविड के नियमों में थोड़ी ढ़ील दी सर्दियों में दिल का रखें ख्याल : डॉ भूटानी भाजपा पंजाब ने आड़े हाथों लेते हुए बिट्‌टू को सवालों में घेर लिया है और उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब में आने वाले स्थानीय निकाय व म्यूनिसिपल कमेटियों का चुनाव अपने चुनाव चिन्ह पर लड़ेगी आईटीबीपी वेट्रनस ने मोहिन्दर सिंह शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की