Friday, January 22, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Aggarjan News

गोपाष्टमी कथा*

November 22, 2020 08:10 PM
 
*गोपाष्टमी कथा*
भगवान् ने जब छठे वर्ष की आयु में प्रवेश किया तब एक दिन भगवान् माता यशोदा से बोले – “मैय्या अब हम बड़े हो गए हैं”
मैय्या यशोदा बोली – “अच्छा लल्ला अब तुम बड़े हो गए हो तो बताओ अब क्या करें”
भगवान् ने कहा – “अब हम बछड़े चराने नहीं जाएंगे, अब हम गाय चराएंगे”
 
मैय्या ने कहा – “ठीक है बाबा से पूंछ लेना”मैय्या के इतना कहते ही झट से भगवान् नन्द बाबा से पूंछने पहुंच गए।
 
बाबा ने कहा– “लाला अभी तुम बहुत छोटे हो अभी तुम बछड़े ही चाराओं”
भगवान् ने कहा– “बाबा अब में बछड़े नहीं चराऊंगा, गाय ही चराऊँगा ”
जब भगवान नहीं माने तब बाबा बोले- “ठीक है लाला तुम पंडत जी को बुला लाओ- वह गौ चारण का महुर्त देख कर बता देंगे”
 
बाबा की बात सुनकर भगवान् झट से पंडित जी के पास पहुंचे और बोले– “पंडित जी ! आपको बाबा ने बुलाया है, गौ चारण का महुर्त देखना है, आप आज ही का महुर्त बता देना मैं आपको बहुत सारा माखन दूंगा” पंडित जी नन्द बाबा के पास पहुंचे और बार-बार पंचांग देख कर गणना करने लगे तब नन्द बाबा ने पूंछा “पंडित जी क्या बात है ? आप बार-बार क्या गिन रहे हैं ? 
 
पंडित जी बोले “क्या बताएं नन्दबाबा जी केवल आज का ही मुहुर्त निकल रहा है, इसके बाद तो एक वर्ष तक कोई मुहुर्त नहीं है” पंडित जी की बात सुन कर नंदबाबा ने भगवान् को गौ चारण की स्वीकृति दे दी। भगवान जी जिस भी समय कोई कार्य करें वही शुभ-मुहुर्त बन जाता है।
 
उसी दिन भगवान ने गौ चारण आरम्भ किया और वह शुभ तिथि थी- “कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष अष्टमी” भगवान के गौ-चारण आरम्भ करने के कारण यह शुभ तिथि गोपाष्टमी कहलाई।
 
 
 
 
 
ReplyForward
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More Aggarjan News News
नवरात्रि में कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त,पूजा विधि,और महत्‍व आओ जानें* सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को इस ग्रहण में सूतक काल मान्य है इसका समय और उपाय 21 जून को लग रहा है सूर्य ग्रहण जानें, सतूक काल और उपाय आओ जानें* खुशखबरी 🌷😄 👉अग्रजन पत्रिका खबरें ग्रुप तीन से पाठकों की मांग पर अग्रजन पत्रिका खबरें ग्रुप की संख्या छ होने जा रही है✍️🤝 भगवान शिव को आखिर कैसे मिली थी तीसरी आंख बहुत बड़ा रहस्य है आओ जानें* हनुमान जी लंका से सीता जी को क्यों नहीं लाए थे और हनुमान चालीसा के कुछ अदभुत रहस्य,, वास्तुदोष निवारण करने के लिए उपाय आओ जानें* *श्री राम की सौगंध खाकर राम से ही लड़ने चले हनुमान आओ जानें* *बीमारी पहचानिये* आज एक प्रतिज्ञा ली जाए, कि कोई भी कोरोना मैसेज नहीं भेजेंगे... नव वर्ष 2077 शुरु हो रहा है 🙏🏻🚩 विक्रम संवत 2077 में प्रवेश करने से पहले घर में वास्तुदोष के कुछ बदलाव का संकल्प लें आओ जानें
पूजा से सम्बंधित तीस आवश्यक नियम और नवरात्रि में माँ भगवती जी का पूजन कैसे करें आओ जानें*