Saturday, December 04, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
निर्यातक के घर के सामने जमकर प्रदर्शन किया और हर रोज धरना देने का फैसला लिया। कहां की है घटना पढ़िए पूरी खबरअभय सिंह की जीत के बावजूद किसान की करारी हार-- ऐलनाबाद उपचुनाव परिणाम की समीक्षा --- पढ़िए पूरा विश्लेषणमल्टीस्पेशलिटी चेकअप कैंप में 270 लोगों की जांच, 20 आपरेशनविधानसभा अध्यक्ष ने किया अमरटेक्स, इंडस्ट्रियल एरिया फेस-1 में फैक्ट्रियों के मालिकों व श्रमिकों/कर्मचारियों के लिये मैगा कोविशिल्ड वैक्सीनेशन कैंप का उद्घाटन।पेड़-पौधे लगाकर हम धरती माता का श्रृंगार कर सकते हैं: श्रवण गर्गहरियाणा में येलो अलर्ट: 29 मई तक पड़ेगी तेज गर्मी, 30 और 31 मई को अंधड़ व बूंदाबांदी ।। जींद में कोरोना महामारी के बीच नगर के रेलवे रोड पर स्थित सब्जी मंडी में उमड़ रही लोगों की भीड़पंचकूला मौत का कुछ नही पता कब आ जाये ऐसा ही वाक्या देखने को मिला सेक्टर 20 पंचकूला में*
 
 
 
National

चीनी लाइट को टक्कर देंगे गोबर से बने 33 करोड़ दीये, भारत में प्रतिदिन लगभग 192 करोड़ किलो गोबर का उत्पादन*

October 13, 2020 09:23 PM
 
*चीनी लाइट को टक्कर देंगे गोबर से बने 33 करोड़ दीये, भारत में प्रतिदिन लगभग 192 करोड़ किलो गोबर का उत्पादन*
 
 
 
*नई दिल्ली*
 
 
 
राष्ट्रीय कामधेनु आयोग अगले महीने दिवाली के दौरान चीनी उत्पादों का मुकाबला करने के लिए, गाय के गोबर से बने 33 करोड़ पर्यावरण अनुकूल दीये के उत्पादन करने का लक्ष्य तय कर रहा है।
 
आयोग के अध्यक्ष वल्लभभाई कथीरिया ने सोमवार को यह जानकारी दी। देश में स्वदेशी मवेशियों के संवर्धन और संरक्षण के लिए 2019 में स्थापित किए गए इस आयोग ने आगामी त्योहार के दौरान गोबर आधारित उत्पादों के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए एक देशव्यापी अभियान शुरू किया है।
 
 
कथीरिया ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''चीन निर्मित दीया को खारिज करने का अभियान प्रधानमंत्री के स्वदेशी संकल्पना और स्वदेशी आंदोलन को बढ़ावा देगा।'' उन्होंने कहा कि 15 से अधिक राज्य, इस अभियान का हिस्सा बनने के लिए सहमत हुए हैं।
 
उन्होंने कहा कि लगभग तीन लाख दीये पावन नगरी अयोध्या में जलाए जाएंगे, जबकि उत्तर प्रदेश के वाराणसी में एक लाख दीये जलाये जायेंगे। उन्होंने कहा, ''विनिर्माण का काम शुरू हो गया है। हमने दिवाली से पहले 33 करोड़ दीयों को बनाने का लक्ष्य तय किया है।'' वर्तमान में भारत में प्रतिदिन लगभग 192 करोड़ किलो गोबर का उत्पादन होता है।
 
उन्होंने कहा कि गोबर आधारित उत्पादों की विशाल संभावनाएं मौजूद हैं। अयोग ने कहा कि हालांकि यह सीधे तौर पर गोबर आधारित उत्पादों के उत्पादन में शामिल नहीं है, लेकिन यह व्यवसाय स्थापित करने को इच्छुक स्वयं सहायता समूहों और उद्यमियों को प्रशिक्षण देने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं।
 
दीयों के अलावा, आयेग गोबर, गौमूत्र और दूध से बने अन्य उत्पादों जैसे कि एंटी-रेडिएशन चिप, पेपर वेट, गणेश और लक्ष्मी की मूर्तियों, अगरबत्ती, मोमबत्तियों और अन्य चीजों के उत्पादन को बढ़ावा दे रहे हैं। कथीरिया ने कहा कि इस पहल से गाय आश्रयों (गौशालाओं) को मदद मिलेगी, जो वर्तमान में कोविड-19 महामारी के कारण वित्तीय मुसीबत में हैं। ये गौशालायें ग्रामीण भारत में नौकरी के अवसर पैदा करने के अलावा लोगों को आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर सकती हैं।
 
उन्होंने कहा, ''पूरे के पूरे रुख में बदलाव करने की जरुरत है तथा गाय आधारित कृषि और गाय आधारित उद्योग के बारे में लोकप्रिय धारणा को तत्काल दुरुस्त किये जाने की जरुरत है ताकि समाज का सामाजिक और आर्थिक कायाकल्प हो विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्र के गरीबों का जीवन बदले।'' उन्होंने कहा कि किसानों, गौशाला संचालकों, उद्यमियों को इस अभियान का हिस्सा बनने के लिए कई तरह की वेबिनार आयोजित की जा रही हैं।
 
 
 
 
 
ReplyForward
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
 
More National News
पीएम नरेंद्र मोदी और कैबिनेट कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर व राज्यमंत्री कैलाश चौधरी का धन्यवाद किया कटारिया ने
पंचकूला पुलिस नें बुर्जुग के साथ हुई मारपीट के मामला दर्ज कर आरोपी को किया काबू ।
बागवानी खेती से किसान होंगे अधिक समृद्व- जय प्रकाश दलाल कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री
आ गया सख्त फरमान, कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाई तो वेतन भी नहीं*
ब्रेकिंग न्यूज़ सम्मानः हरियाणा पुलिस को एक बार फिर मिली राष्ट्रीय स्तर पर पहचान*
उड़ीसा के राज्यपाल महामहिम प्रो. गणेशीलाल ने सालासर मंदिर में की पूजा-अर्चना
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में देश विश्व गुरू बनने की ओर अग्रसर-गुप्ता*
चिंतनशाला:* अभी एक घटनाक्रम हुआ। फिल्म अभिनेता शाहरुख खान का बेटा आगे पढ़िए पूरी खबर ढाई घंटे चली राहुल-CM चन्नी की मीटिंग:बिना कुछ बोले रवाना हुए सूत्रों से मिली खबर कुछ तो हुआ है राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने यह क्या कह दिया विपक्षी पार्टियों की नींद उड़ी