Monday, November 30, 2020
Follow us on
 
BREAKING NEWS
सोनीपत ब्रेकिंग न्यूज़ गन्नौर के गांव गुमड में जहरीली शराब पीने से 6ग्रामीणों की संदिग्ध मौत होने के चलते गुस्साए ग्रामीणों ने गोहाना गन्नौर मार्ग को दूसरे दिन भी 2 सव रखकर लगाया जामगोहाना बिग ब्रेकिंग न्यूज़ सोनीपत में विषाक्त शराब पीने से 27 लोगों की मौत के बाद प्रशासन अलर्ट ,ब्रेकिंग पंचकूला---पंचकूला में एक साल की बच्ची मिली कोरोना पॉजिटिव,ब्रेकिंग न्यूज़ --अब लॉकडाउन ख़त्म , शुरू हुआ अनलॉक -1 , गृह मंत्रालय ने 1 जून से 30 जून तक अनलॉक -1 का जारी किया गाइड लाइन :-Big ब्रेकिंग panchkula .*. *सेक्टर 5 पंचकूला थाने में कार्यरत पुलिस की महिला कर्मी लांगरी मिली कोरोना पॉजिटिव,*ब्रेकिंग न्यूज़ -हरियाणा सरकार ने प्रदेश में सामान्य, लग्जरी और सुपर लग्जरी बसों के किराये को 85 पैसा प्रति यात्री प्रति किलोमीटर से बढ़ाकर एक रुपया प्रति यात्री प्रति किलोमीटर करने का निर्णय लिया है ब्रेकिंग न्यूज़-अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन ने ज़रूरतमंदो को बाँटे 92500 भोजन के पैकेट*बिग ब्रेकिंग न्यूज़ -चंडीगढ़ में आज कोरोना के 11 नए संक्रमित मरीज़ मिले। चंडीगढ़ में अब तक पाये गए कुल संक्रमित मरीज 56 हो गए हैं। इनमें 39 एक्टिव मामले हैं।
 
 
 
National

रामजन्मभूमि आंदोलन की अग्रवाल विभूतियां-- पवन गुप्ता सोनीपत

August 07, 2020 09:55 PM
रामजन्मभूमि आंदोलन की अग्रवाल विभूतियां-- पवन गुप्ता सोनीपत
 
महाराज अग्रसेन का जन्म मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के पुत्र कुश की 34वीं पीढ़ी में प्रतापनगर के राजा वल्लभसेन के घर में हुआ था। अग्रभागवत के अनुसार परम शुद्ध इक्ष्वाकु वंश में द्वापर के अंत में महाराज अग्रसेन के जन्म हुआ था। महाराज अग्रसेन वंशकर राजा थे। (अर्थात जिनके नाम पर उनके वंशजों के जाना जाए) इसीलिए महाराज अग्रसेन के वंशज अग्रवाल कहलाते हैं। रामजन्मभूमि आंदोलन में अग्रवालों की अहम भूमिका थी उन्हीं में से कुछ अग्रकुल वंशजों का नाम नीचे उल्लेखित किया है- 
 
हिंदुत्व पुरोधा श्रद्धेय श्री अशोक सिंहल -माननीय अशोक सिंहल जी ने विश्व के सबसे बड़े आंदोलन राम जन्मभूमि आंदोलन को नेतृत्व प्रदान किया।  अशोक सिंघल जी रामजन्मभूमि आंदोलन के हनुमान थे। उन्होंने राम जन्म भूमि न्यास के नाम से ट्रस्ट की स्थापना की थी। क्या आप जानते हैं की वो कोई बाबा या साधु नहीं बल्कि IIT BHU से पासआउट इंजीनियर थे लेकिन उन्होंने अपने जीवन में प्रण लिया था की वो हिंदुओं के मस्तक पर जो कलंक लगा है (बाबरी मस्जिद) उसे मिटाकर ही दम लेंगे। उन्होंने सर्व प्रथम 1989 में एक ईंट अपने सर पर रखकर राम जन्मभूमि आंदोलन का शिलान्यास किया और उसी के ठीक 30 वर्ष पश्च्यात सुप्रीम कोर्ट से राम जन्मभूमि आंदोलन के पक्ष में फैसला आया। अशोक सिंघल जी के नेतृत्व में विहिप ने पूरे देश में बड़ी बड़ी रैलियां आयोजित की जिसमें अशोक जी की तेजस्वी वाणी से लोगों में जोश भरा। अशोक सिंघल जी ने अपना पूरा जीवन राम जन्मभूमि आंदोलन के लिए समर्पित कर दिया था। ये रामजन्मभूमि आंदोलन के दौरान कई बार पुलिस की लाठियों से घायल हुए लेकिन उन्होंने अपनी राम जन्मभूमि के प्रति लगन कम नहीं होने दी। जब तथाकथित हिंदूवादी लोगों ने भी रामजन्मभूमि आंदोलन से अपना पल्ला झाड़ लिया था तब भी अशोक सिंहल जी अपनी अंतिम सांस तक रामजन्मभूमि आंदोलन के साथ बने रहे। उन्होंने  बीजेपी की सरकार में भी, जिस समय माननीय श्री अटल बिहारी जी स्वयं प्रधान मंत्री थे, रामलला के मंदिर निर्माण के लिए अनशन पर बैठे थे। सुब्रमनियम स्वामी ने भी राम मन्दिर का फैसला आने के बाद श्री अशोक सिंघल जी के लिए भारत रत्न की मांग की थी। 
 
नित्यलीलालीन हनुमान प्रसाद पोद्दार 'भाई जी'- अयोध्याधाम में जो भगवान श्री रामलला सरकार का विग्रह है उसका निर्माण स्वयं भाई जी ने अष्टधातु में करवाया था। 1949 में जब श्रीरामलला सरकार का प्राकट्य हुआ था उसमें श्री हनुमान प्रसाद पोद्दार जी की महती भूमिका थी। पोद्दार जी ने जन्मभूमि के वास्तविकता को साबित करने के लिए बहुत ही तथ्यपूर्ण ढंग अपने कल्याण में "रामजन्मभूमि अंक" निकाला था।कल्याण पत्रिका उस समय बहुत लोकप्रिय हुआ करता था।कांग्रेस को इसकी भनक लगी उसने कल्याण के 'रामजन्मभूमि ' अंक पर बैन लगा दी साथ में उसके मूलप्रति को भी जब्त कर लिया था। उन्होंने कल्याण पत्रिका में खुल कर राम जन्म भूमि के पक्ष में रिपोर्टिंग की थी। 
 
देवकी नंदन अग्रवाल - इन्होंने श्री रामलला सरकार के विग्रह को जन्मभूमि का पैरोकार बनाने के लिए कोर्ट में मुकदमा दाखिल किया था और कोर्ट में खुद को रामलला सरकार के निकटतम मित्र के तौर पर पेश किया था। हिंदू मान्यताओं के अनुसार प्राण-प्रतिष्ठित मूर्ति एक जीवित इकाई है और अपना मुकदमा लड़ सकती है। लेकिन प्राण-प्रतिष्ठित मूर्ति नाबालिग मानी जाती है, इसलिए उनका मुकदमा लड़ने के लिए किसी एक व्यक्ति को माध्यम बनाया जाता है। न्यायालय ने रामलला का मुकदमा लड़ने के लिए देवकीनंदन अग्रवाल को रामलला के अभिन्न सखा के रूप में अधिकृत किया। न्याय प्रक्रिया संहिता की धारा 32 मानती है कि विराजमान ईश्वर (मूर्ति) को एक व्यक्ति माना जाता है। उसे एक व्यक्ति मानकर पक्षकार बनाया जा सकता है। इससे जन्मभूमि परिसर में फालतू में दावा करने वालों और मंदिर निर्माण में बाधा डालने वालों को रोका गया। 
 
सीताराम गोयल और रामस्वरूप अग्रवाल जी - सीताराम गोयल जी का मंदिर आंदोलन में अद्वितीय योगदान था। सीताराम गोयल जी ने भारत भर में आक्रान्ताओं द्वारा तोड़े गए मंदिरों की पूरी सूची, तथ्यों और तस्वीरों के साथ संकलित की थी, व इसमें सप्रमाण सभी तोड़े गए मंदिरों की पूरी डिटेल हिन्दू समाज के सामने रखी थी, जिसमें अयोध्या का श्रीरामजन्मभूमि मन्दिर भी था। 
 
जय भगवान गोयल - अग्रवंशी जय भगवान गोयल वो शेरदिल शख्शियत जिसने सबसे पहले नेशनल टेलीविजन पर स्वीकारा की हाँ हमने तोड़ी थी बाबरी मस्जिद जो प्रतीक थी गुलामी की।  इन्होंने कोर्ट में ये कहा था कि वह ढांचा मैंने ढहाया जो सजा देनी है मुझे दो।
 
चम्पत राय जी - बहुत कम लोग जानते हैं चम्पत राय जी को जो आज कल रामजन्मभूमि न्यास का कुशलतापूर्वक संचालन व सब व्यवस्थओं की देखरेख कर रहे हैं। वे हमेशा से जमीनी स्तर पर कार्य करने वाले संघ के प्रचारक रखे हैं जिन्होंने पूरा जीवन रामजन्मभूमि आंदोलन के लिए खपा दिया। वे अशोक सिंघल जी के राइट हैंड माने जाते थे इससे उनके योगदान का अंदाजा हो जाता है।
 
पवन सिंहल - ये अशोक सिंघल जी के भतीजे हैं और 5 अगस्त को अयोध्या में होने वाले भूमिपूजन के मुख्य जजमान है। पवन जी बहुत धार्मिक हैं और ये स्वयं का वेद विश्वविद्यालय भी चलते हैं।
 
उपरोक्त जन्में सभी साकेतवासी महापुरुषभगवान् राम के वंशज थे। इन सभी का जन्म अग्रोहानरेश महाराज अग्रसेन की कुलपरम्परा में हुआ था। लाखों अग्रवाल व्यापारी और उद्योगपतियों ने रामजन्मभूमि आंदोलन के लिए तन-मन-धन तीनों से सहयोग किया... विहिप के पूर्व अध्यक्ष और भारत के जाने माने उद्योगपति श्री विष्णु हरि डालमिया तो आजीवन रामजन्मभूमि मंदिर के कोषाध्यक्ष बने रहे और आंदोलन को आर्थिक सहायता प्रदान की। कहते हैं बाबरी मस्जिद को ढहाने के बाद सर्वाधिक अग्रकुल वंशजों की गिरफ्तारी हुई थी। इस तरह अनेकों अग्रवालों ने अपने बलिदान से खुद को श्री राम का वंशज होना चरितार्थ किया। 
 
अनंत कोटि ब्रम्हाण्ड नायक रघुकुल चूड़ामणि भानुकुल दिवाकर राजीवनयन राजा रामचंद्र सरकार की जय
 
 
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
काफी विचार विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरूप दिया। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बन्धन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं, नए अवसर भी मिले हैं: पीएम केन्द्रीय कृषि मंत्री शीघ्र किसानों से सीधा संवाद करें। - आंलोदनकारियों से मिल एमएसपी पर अध्यादेश लाकर किसानों को विश्वास दिलाएं- सुशील गुप्ता, सांसद आम आदमी पार्टी व हरियाणा सहप्रभारी। देश की राजधानी में लॉकडाउन पर दिल्ली सरकार ने 24 घंटे में ही अपना फैसला बदल लिया है।*
हरियाणा की जंगलराज सरकार में अब घोटालों का बोल-बाला-सुशील गुप्ता सांसद, आम आदमी पार्टी एवं हरियाणा सहप्रभारी
महर्षि दयानन्द का राष्ट्रवाद पर गोष्ठी संम्पन्न महर्षि दयानंद से हजारों लोगों ने राष्ट्रवाद की प्रेरणा ली - नरेंद्र आहूजा विवेक
नीतीश कुमार ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, शाह-नड्डा सहित कई बड़े नेता भी रहे मौजूद* सुशील कुमार मोदी ही बनेंगे बिहार के डिप्टी सीएम, विधानमंडल दल की बैठक में लगेगी मुहर- सूत्र *अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत* *सुप्रीम कोर्ट - अर्णव गोस्वामी केस- मोटा मोटी बात सामने आ रही हैं।* *आज हस्तक्षेप करना जरूरी - हाई कोर्ट व निचली अदालत व्यक्ति की निजियता के नियमो का इस्तेमाल करें* न्यूज़ पोर्टल और डिजिटल कंटेंट पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार ने जारी कर दिया आदेश* डोनाल्ड ट्रंप को हराकर बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. बाइडेन की जीत का दावा The Associated Press ने किया है. बाइडेन को 273 वोट मिले हैं.*