Friday, December 04, 2020
Follow us on
 
BREAKING NEWS
मनीमाजरा पुलिस ने करोना जागरूकता के लिए की मार्किट एसोसिएशन के साथ मीटिंग पंचकूला की मार्किटों से दुकानों के बाहर बरामदों मे से सभी प्रकार के अतिक्रमण हटाने को लिखा गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार की लूट के मामले में आरोपियो को क्राईम ब्रांच पचंकूला ने किया काबूलोगों को स्वच्छता रखने की दिलाई गई शपथ हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा ने पूर्व कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल के भाई की श्रद्धांजलि सभा में पहुंच पुष्पांजलि अर्पित की कृषि मंत्री की बजाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह को किसान नेताओं से बातचीत करके समस्या का तुरंत हल करना चाहिए - राहुल गर्ग पचकूला में 20 की 20 सीटों पर जीत हांसिल कर एक नया इतिहास बनायेंगे : कैप्टन अभिमन्यु भगवान श्री विश्वकर्मा नमन समारोह का आयोजन
 
 
 
Aggarjan News

माँ दुर्गा जी शेर की सवारी क्यों करती है, पौराणिक कथा आओ जानें*

January 31, 2020 09:20 PM
*माँ दुर्गा जी शेर की सवारी क्यों करती है, पौराणिक कथा आओ जानें*
Astrologer receptor
देवी-देवताओं और उनके वाहन से जुड़ी कई कथाओं का वर्णन शास्‍त्रों में मिलता है लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि मांँ दुर्गा की सवारी शेर ही क्‍यों है। 
 मांँ दुर्गा शेर की सवारी 
शेर की तपस्‍या से खुश होकर मां ने दिया उसे वरदान
हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों और तस्‍वीरों में अक्‍सर उन्हें उनकी सवारी के साथ दर्शाया जाता है. भगवान के हर स्‍वरूप और उनकी सवारी का अपना महत्‍व और जुड़ाव है जिसके पीछे शास्‍त्रों में कई कथाओं का भी वर्णन किया गया है. कुछ ही दिनों में चैत्र नवरात्रि का आरंभ होने वाला है और इन दिनों मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा की जाती है.
 
मां दुर्गा तेज, शक्ति और सामर्थ्‍य की प्रतीक हैं और उनकी सवारी शेर है. शेर प्रतीक है आक्रामकता और शौर्य का. यह तीनों विशेषताएं मां दुर्गा के आचरण में भी देखने को मिलती है. यह भी रोचक है कि शेर की दहाड़ को मां दुर्गा की ध्वनि ही माना जाता है जिसके आगे संसार की बाकी सभी आवाजें कमजोर लगती हैं. क्‍या आप जानते हैं कि क्‍यों शेर मां दुर्गा का वाहन है और क्‍या है इसके पीछे की कथा?
 
अगर आप नहीं जातने हैं तो आइए हम आपको बताते हैं मां दुर्गा की सवारी शेर से जुड़ी कथा...
 
*पौराणिक कथा के अनुसार*
 एक बार कैलाश पर्वत में मां पार्वती और शिवजी साथ बैठे हुए थे और एक दूसरे से मजाक कर रहे थे. मजाक में ही शिवजी ने मां पार्वती को काली कह दिया. मां पार्वती को बहुत बुरा लगा और वह कैलाश पर्वत छोड़ कर वन में चली गई और वह घोर तपस्या में लीन हो गईं. इस बीच एक भूखा शेर मां पार्वती को खाने की इच्छा से वहां पहुंचा, ले‌किन वह वहीं चुपचाप बैठ गया.
माता के प्रभाव के चलते वह शेर भी तपस्या कर रही मां के साथ वहीं सालों चुपचाप बैठा रहा. मां ने जिद कर ली थी कि जब तक वह गोरी नहीं हो जाएंगी तब तक वह यहीं तपस्या करेंगी. तब शिवजी वहां प्रकट हुए और देवी को गोरा होने का वरदान देकर चले गए.
फिर माता ने नदी में स्नान किया और बाद में देखा की एक शेर वहां चुपचाप बैठा माता को ध्यान से देख रहा है. देवी पार्वती को जब यह पता चला कि यह शेर उनके साथ ही तपस्या में यहां सालों से बैठा रहा है तो माता ने प्रसन्न होकर उसे वरदान स्वरूप अपना वाहन बना लिया. तब से मां पार्वती का वाहन शेर हो गया।।
 
 
 
 
Have something to say? Post your comment
More Aggarjan News News
गोपाष्टमी कथा*
नवरात्रि में कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त,पूजा विधि,और महत्‍व आओ जानें* सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को इस ग्रहण में सूतक काल मान्य है इसका समय और उपाय 21 जून को लग रहा है सूर्य ग्रहण जानें, सतूक काल और उपाय आओ जानें* खुशखबरी 🌷😄 👉अग्रजन पत्रिका खबरें ग्रुप तीन से पाठकों की मांग पर अग्रजन पत्रिका खबरें ग्रुप की संख्या छ होने जा रही है✍️🤝 भगवान शिव को आखिर कैसे मिली थी तीसरी आंख बहुत बड़ा रहस्य है आओ जानें* हनुमान जी लंका से सीता जी को क्यों नहीं लाए थे और हनुमान चालीसा के कुछ अदभुत रहस्य,, वास्तुदोष निवारण करने के लिए उपाय आओ जानें* *श्री राम की सौगंध खाकर राम से ही लड़ने चले हनुमान आओ जानें* *बीमारी पहचानिये* आज एक प्रतिज्ञा ली जाए, कि कोई भी कोरोना मैसेज नहीं भेजेंगे... नव वर्ष 2077 शुरु हो रहा है 🙏🏻🚩 विक्रम संवत 2077 में प्रवेश करने से पहले घर में वास्तुदोष के कुछ बदलाव का संकल्प लें आओ जानें