Monday, April 12, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
National

18 लाख से ज्यादा किसानों के खाते में सरकार ने ट्रांसफर किए 26,719.51 करोड़ रुपय और कहां-कहां हुई एमएसपी मूल्य पर खरीद पढ़िए पूरी खबर

March 27, 2021 06:39 PM
नई दिल्ली
18 लाख से ज्यादा किसानों के खाते में सरकार ने ट्रांसफर किए 26,719.51 करोड़ रुपय
23 मार्च 2021 तक 18,86,498 किसानों से 26,719.51 करोड़ रुपये के एमएसपी मूल्य पर कपास की 91,86,803 गांठों की खरीद की जा चुकी है.
 
खरीफ विपणन सत्र (केएमएस) 2020-21 के दौरान सरकार अपनी मौजूदा एमएसपी योजनाओं के अनुसार ही किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीफ फसलों की खरीद कर रही है, जिस प्रकार से विगत सत्रों में होती रही है.खरीफ 2020-21 के लिए धान की खरीद सुचारु रूप से चल रही है. पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, तमिलनाडु, चंडीगढ़, जम्मू और कश्मीर, केरल, गुजरात, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड, असम, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा से धान की खरीद की जा रही है.
23 मार्च 2021 तक इन राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के किसानों से 687.32 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान की खरीद की जा चुकी है, जबकि इसी समान अवधि में पिछले वर्ष 605.01 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद हो पाई थी.
 
इस वर्ष में अब तक की गई धान की खरीद में पिछले वर्ष के मुक़ाबले 13.60 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है. 687.32 लाख मीट्रिक टन धान की कुल खरीद में से अकेले पंजाब की हिस्सेदारी 202.82 लाख मीट्रिक टन है, जो कि कुल खरीद का 29.50 प्रतिशत है.
लगभग 101.34 लाख किसान वर्तमान खरीफ विपणन सत्र में पहले ही लाभान्वित हो चुके हैं. किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 1,29,766.72 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है. इसके अलावा, प्रदेशों से मिले प्रस्ताव के आधार पर तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों से खरीफ विपणन सत्र 2020-21 एवं रबी विपणन सत्र 2021 के लिए मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के तहत 107.08 लाख मीट्रिक टन दलहन और तिलहन की खरीद को भी मंजूरी प्रदान की गई है.
 
कोपरा की हो रही है जमकर खरीदारी
 
आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल राज्यों से 1.23 लाख मीट्रिक टन कोपरा (बारहमासी फसल) की खरीद के लिए भी स्वीकृति दी गई है. यदि अधिसूचित फ़सल अवधि के दौरान संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में बाजार की दरें एमएसपी से नीचे चली जाती हैं, तो राज्य की नामित ख़रीद एजेंसियों के माध्यम से केंद्रीय नोडल एजेंसियों द्वारा इन राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के अंतर्गत दलहन, तिलहन और कोपरा फसल की खरीद के प्रस्तावों की प्राप्ति पर भी मंजूरी दी जाएगी, ताकि पंजीकृत किसानों से वर्ष 2020-21 के लिए अधिसूचित किये गए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सीधे इन फसलों के एफएक्यू ग्रेड की खरीद की जा सके.
खरीफ 2020-21 और रबी 2021 के तहत 23 मार्च 2021 तक सरकार ने अपनी नोडल एजेंसियों के माध्यम से 3,76,091.82 मीट्रिक टन मूंग, उड़द, तुअर, मूंगफली की फली और सोयाबीन की खरीद एमएसपी मूल्यों पर की है. इस खरीद से तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान के 2,20,231 किसानों को 2,006.51 करोड़ रुपये की आय हुई है.
इसी तरह से 5,089 मीट्रिक टन कोपरा (बारहमासी फसल) की खरीद कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों से की गई है. इस दौरान 3,961 किसानों को लाभान्वित करते हुए 23 मार्च 2021 तक न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 52 करोड़ 40 लाख रुपये की अदायगी की गई है. इनसे संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारें खरीफ दलहन तथा तिलहन फसलों के आवक के आधार पर संबंधित राज्यों द्वारा तय तिथि से खरीद शुरू करने के लिए आवश्यक इंतज़ाम कर रही हैं.
न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत ही पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और कर्नाटक राज्यों से कपास की खरीद का कार्य भी सुचारु रूप से जारी है. 23 मार्च 2021 तक 18,86,498 किसानों से 26,719.51 करोड़ रुपये के एमएसपी मूल्य पर कपास की 91,86,803 गांठों की खरीद की जा चुकी है.
 
 

 

  •  

 


 

 

  • ,
  • or

 

Have something to say? Post your comment
 
More National News
सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे विद्यार्थी : सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग जारी* बुखार-खांसी नहीं फिर भी सावधान! ये हैं कोरोना के नए स्ट्रेन के खतरनाक लक्षण* स्वास्थ्य विभाग ने दिल्ली में किया लिंग जांच गिरोह का पर्दाफाश, 7 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज
जल संकट से निपटने के लिए ब्रिक्स राष्ट्र को एक दूसरे के अनुभव से सीखना चाहिए। - रतन लाल कटारिया
अधिकारियों के द्वारा बनाया जा रहा वैनडिंग जोन के विरोध में रोश जताया। *दिल्ली में वेंटिलेटर और आईसीयू बेड्स की कमी* ........ *देश में 24 घंटे में 131000 से ज्यादा नए केस 802* *दिल्ली सरकार ने पत्रकारों को नाइट कर्फ्यू में दी राहत* *पश्चिम बंगाल चुनाव* *कुछ संभावित तथ्य* काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण कराए जाने की अदालत से मिली मंजूरी जानिए क्या है खबर..