Saturday, January 23, 2021
Follow us on
 
BREAKING NEWS
गन प्वांइट पर फॉर्च्यूनर कार लूटने वालें आरोपियो को भेजा जेल क्राईंम ब्राचं पचंकूला ने भैसं चोर को लिया पुलिस रिमाण्ड पर संगरूर सांसद भगवंत मान ने किसान आंदोलन को लेकर पंजाब की कांग्रेस पार्टी और शिरोमणि अकाली दल नेताओं पर तीखी टिप्पणी कीकांग्रेस सदन में किसानों के मुद्दे पर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी - भूपेंद्र सिंह हुड्डाजजपा ने पंचकूला नगर निगम मेयर व वार्ड मेंबर्स के चुनाव के लिए कमर कसी उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने लघु सचिवालय परिसर, चिडिय़ाघर रोड़, बीपीएस रोड़ और हुडा पार्क के आसपास किया निरीक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को वो कानूनी अधिकार दे रहे हैं-- रत्नलाल कटारिया कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की पहली बैठक में हुई तैयारियों की समीक्षा
 
 
 
Haryana

कृषि क़ानूनों से किसानों के साथ आम उपभोक्ता और ग़रीब परिवारों को भी होगा नुकसान- हुड्डा

January 13, 2021 07:51 PM
कृषि क़ानूनों से किसानों के साथ आम उपभोक्ता और ग़रीब परिवारों को भी होगा नुकसान- हुड्डा
 
·     
गुरुग्राम 13 जनवरी--- अग्रजन पत्रिका ब्यूरो-- पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि ये आंदोलन सिर्फ किसानों का नहीं बल्कि आम उपभोक्ता और ग़रीब परिवार का भी है। क्योंकि 3 नए क़ानूनों से सिर्फ किसानों को नहीं बल्कि हरेक उपभोक्ता और ग़रीब तबके को भी नुक़सान होगा। सरकार की तरफ से पूंजीपतियों को मिली जमाखोरी की छूट का फ़ायदा उठाते हुए अब वो लोग कालाबाज़ारी करेंगे। जब किसान की फसल मंडी में आएगी तो मार्किट में रेट गिरा दिए जाएंगे और जब मुनाफ़ाखोर सारा उत्पादन ख़रीद लेंगे तो उसे आम उपभोक्ता को महंगे रेट में बेचा जाएगा। इसी तरह अगर सरकारी ख़रीद बंद हो जाएगी तो सरकार बीपीएल परिवारों को सस्ता अनाज भी देना बंद कर देगी। इसीलिए हम लोग 3 कृषि क़ानून आने के बाद से लगातार इसका विरोध कर रहे हैं और किसानों की मांग का पूर्ण समर्थन करते हैं।
 
हुड्डा आज गुरुग्राम में पूर्व मंत्री सुखबीर कटारिया की माता जी की पुण्यतिथि के मौक़े पर उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने पत्रकार वार्ता को भी संबोधित किया। इस मौक़े पर उन्होंने कहा कि 50 दिनों से प्रदेश का अन्नदाता आंदोलनरत है। वो दिल्ली बॉर्डर समेत पूरे प्रदेश में कड़कड़ाती ठंड और खुले आसमान के नीचे धरना दे रहा है। करीब 70 किसानों की शहादत हो चुकी है। लेकिन सरकार उनकी मांगे मानने की बजाए उन्हें तारीख़ों के फेर में उलझा रही है। सरकार को किसानों की हालत और हालात की गंभीरता को समझते हुए बिना देरी के आंदोलनकारियों की मांगें माननी चाहिए। नेता प्रतिपक्ष ने प्रदेश सरकार की तरफ से बड़ी तादाद में किसानों पर दर्ज़ किए गए मुक़दमे वापिस लेने की भी अपील की। सरकार को किसानों के प्रति द्वेष भावना या बदले की नीयत से कार्रवाई नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में जनभावनाओं और अहिंसक आंदोलनों को सत्ताबल से दबाया नहीं जा सकता। शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों पर बार-बार वाटर कैनन और आंसू गैसे के गोलों का इस्तेमाल करना पूरी तरह अलोकतांत्रिक है। सरकार को समझना चाहिए कि किसान टकराव नहीं समाधान चाहते हैं।
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
गीता का हर अध्याय वैज्ञानिक, वैचारिक व व्यावहारिक है: स्वामी ज्ञानानंद महाराज गीतामनीषी ने गौसेवा आयोग के चैयरमैन श्रवण गर्ग के कार्यालय का किया उद्घाटन
गुरूकुल/संस्कृत महाविद्यालय हेतु ‘पूर्व मध्यमा’ भाग-1 व 2 एवं ‘उत्तर मध्यमा’ भाग-1 व 2 के लिए अस्थाई मान्यता-सह-सम्बद्धता शुल्क कुल 28,000 रुपए निर्धारित किया गया हरियाणा के सभी महाविद्यालय व विश्वविद्यालय आगामी 26 जनवरी 2021 से तंबाकू-फ्री हो जाएंगे। ऑनलाइन राज्य स्तरीय बाल महोत्सव में लगभग 5 लाख प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया --मानद महासचिव श्री कृष्ण ढुल गणतंत्र दिवस सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पचंकूला पुलिस हूई एलर्ट :- डी.सी.पी. पचंकूला
किसान अन्नदाता होने के साथ साथ देश के आर्थिक ढांचे मे रीढ़ की हड्डी हैं : विकास दास महाराज
कोर्ट का महत्वपूर्ण आदेश- पति-पत्नी सहमत तो फैमिली कोर्ट नहीं करा सकती इंतजार
प्रदेश के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि बहल खंड के अंतर्गत आने वाले तीन गांवों के किसानों का कपास फसल का वर्ष 2019 का बकाया क्लेम जारी कर दिया गया
कैथल में धरोहर की लूट खुदाई के दौरान मिले अंग्रेजों के जमाने के चांदी के सिक्के,जिसके हाथ जितने लगे लेकर चलता बना स्वेदशी को बढ़ावा:दिल्ली के मेले में बिकेंगे बच्चों के बनाए टॉयज, अब स्कूलों में बच्चे और टीचर बनाएंगे खिलौने*